Download Image

 Please wait 5 sec to downlaod... 3

Dhoka Shayari

आजकल की भाग दौड़ भरी जिंदगी में कहाँ किसी को इतना समय है की एक दुसरे के लिए समय बचा पाएं । तो ऐसे दौर में कुछ बड़ा पढ़ना तो कितना ही मुश्किल काम होगा । तो चिंता मत  कीजिये हम आपके लिए लेकर आये हैं छोटी छोटी और बहुत ही बढ़िया Dhoka Shayari in the Hindi  जो आपको काम समय में भी एक अच्छा उत्साह प्रदान करने की क्षमता रखती है । तो शुरू करते हैं आज की 2 Line Shayari in Hindi  के साथ।

Dhoka shayari in Hindi

Dhoka shayari in hindi

 

दुनिया फ़रेब करके हुनरमंद हो गई,
हम ऐतबार करके गुनाहगार हो गए

dunipya fareb karke hunarmand ho gayi
ham etbaar karke gunaahgar ho gaye

भरे बाजार से अक्सर मैं खाली हाथ आया हूँ,
कभी ख्वाहिश नहीं होती कभी पैसे नहीं होते।

bhare bazar se aksar main khali aaya hun
kabhi kwaish nahin hoti kavhi paise nahhin hote

Pyar me dhoka shayari hindi

गिरना था जो आपको तो सौ मक़ाम थे,
ये क्या किया कि निगाहों से गिर गए

girna tha jo apko to sau mauke the
ye kya kiya ki nigahon se gir gaye

लम्हे फुर्सत के आएं तो, रंजिशें भुला देना दोस्तों,
किसी को नहीं खबर कि सांसों की मोहलत कहाँ तक है।

lamhe fursat ke aaye to, ranjisein bhula dena doston
kisi ko nahin khabar ki sanson ki moholat khan tak hai


Also Read:


Dosti me dhoka shayari

Dosti me dhoka shayari

 

हुआ सवेरा तो हम उनके नाम तक भूल गए
जो बुझ गए रात में चरागों की लौ बढ़ाते हुए।

hua savera to ham unke naam bhool gaye
jo bujh gaye rat meinn chraaagon ki lau bahdate hue

तलब करें तो मैं अपनी आँखें भी उन्हें दे दूँ,
मगर ये लोग मेरी आँखों के ख्वाब माँगते हैं

talab karein to main apni aankhein unhe de dun
magar ye log meri aankhon ke khwab mangnte hain

अगर बिकने पे आ जाओ तो घट जाते हैं दाम अक्सर,
न बिकने का इरादा हो तो क़ीमत और बढ़ती है

agar bikne pe aa jao to ght jata hai daam aksar
naa bikne ka irada ho to keemat aur badhti ha

याद रखना ही मोहब्बत में नहीं है सब कुछ,
भूल जाना भी बड़ी बात हुआ करती है।

yaad rakhna ki mohobbat mein nahin hai sab kuch
bhool jana bhi badi baat hua karti hai

Love dhoka shayari

Love dhoka shayari

 

मिलने को तो हर शख्स एहतराम से मिला,
पर जो मिला किसी न किसी काम से मिला।

milne ko har shaks ehtraam se mila
par jo mile kisi na kisi kaam se mila

बात वफ़ाओ की होती, तो कभी न हारते,
बात नसीब की थी, कुछ ना कर सके।

baat bawafaon ki hoti to kabhi na haarte
baat naseeb ki thi kuch naa kar sake

आप की खा़तिर अगर हम लूट भी लें आसमाँ,
क्या मिलेगा चंद चमकीले से शीशे तोड़ के।

aap ki khatir agar ham lut bhi lein aasman
kya milega chand chamkeele se sheeshe tod ke

मैं एक शाम जो रोशन दीया उठा लाया,
तमाम शहर कहीं से हवा उठा लाया।

main ek sham jo roshan diya utha laya
tmaam shehar kahin hawa utha laya

सितम ये है कि हमारी सफों में शामिल हैं,
चराग बुझते ही खेमा बदलने वाले लोग।

sitam ye hai ki hamari safon mein shaamil hain
chraag bhujhte hi khema badalne vaale log

Apno ka dhoka shayari in Hindi

Apno ka dhoka shayari

 

ऐसे माहौल में दवा क्या है दुआ क्या है,
जहाँ कातिल ही खुद पूछे कि हुआ क्या है

aise mahaul mein dwa kya hai dua kya hai
jhan kaatil hi khud puche ki hua kya hai

तोड़ा कुछ इस अदा से तालुक़ उस ने ग़ालिब,
कि सारी उम्र हम अपना क़सूर ढूँढ़ते रहे

toda kuch is ada se taaluk us ne gaalib
ki saari umr ham apna kasoor dhundhte rahe

कभी हो मुखातिब तो कहूँ क्या मर्ज़ है मेरा,
अब तुम दूर से पूछोगे तो ख़ैरियत ही कहेंगे

kabhi ho kukhaatib to kahun kya marz hai mera
ab tum door se puchoge to khairiyat hi kahenge

शेर-ओ-सुखन क्या कोई बच्चों का खेल है
जल जातीं हैं जवानियाँ लफ़्ज़ों की आग में।

sher o sukhan kya koi bacchon kaa khel hai
jal jaati hain jwaniyan lafjo ki aaag mein

Hope You are enjoying Dhoka Shayari in Hindi. Don’t Forget to follow CaptionHost on Instagram account.

Pyar ek dhoka hai shayari

Pyar ek dhoka hai shayari

 

वो कहानी थी, चलती रही,
मै किस्सा था, खत्म हुआ।

vo kahani thi, chalti rahi
mainn kissa tha, khatam ho gaya

तेरे दर्द को सहना चाहता हूँ,
मैं बस तुझे ख़ुशी देना चाहता हूँ।

tereb dard ko sehna chahta hun
main bas tujhe khushi dena chahhta hun

जो रोशनी में खड़े हैं वो जानते ही नहीं,
हवा चले तो चरागों की जिंदगी क्या है।

jo roshni mein khade hain vo jaante hi nahin
hawa chale to chraagon ki jindagi kya hai

Cheating Shayari in Hindi

Cheating Shayari in Hindi

 

हवा से कह दो खुद को आज़मा के दिखाये,
बहुत चिराग बुझाती है एक जला के दिखाये।

hwa se kah do khud ko aajma kke dikhaye
bahut chiraag bujhati hai ek jla ke dikhaye

उड़ जायेंगे तस्वीरों से रंगो की तरह हम,
वक़्त की टहनी पर हैं परिंदो की तरह हम

ud jayeinge tasveeon se rangi ki tah ham
waqt ki tehni par hain parindon ki tarah

उदासियों कि वजह तो बहुत हैं ज़िंदगी में,
बेवजह खुश रहने का मजा ही कुछ और है

udaasiyon ki vajah to bahut hai jindagi mein
bewajh khush rehne ka maza hi kuch aur hai

मेरा झुकना और तेरा खुदा हो जाना,
यार अच्छा नहीं इतना बड़ा हो जाना।

tera jhukna or tera khuda ho jaana
yaa achcha nahin hai itna bada ho jana

Dhoka shayari image

Dhoka shayari image

 

नए रिश्ते जो न बन पाएं तो मलाल मत करना
पुराने टूटने न पाएं बस इतना ख्याल रखना।

naye rishte jo naa ban payein to mlaal mat karna
puraane tootne naa paaye bas itna khyal rakhna

अपनों से धोखा शायरी इन हिंदी

टूटे हुए दिल भी धड़कते है उम्र भर,
चाहे किसी की याद में या फिर किसी फ़रियाद में

toote hue dil bhi dhakte hain umar bhar
chahe kisi ki yaad mein yaa fir kisi fariyaad mein

करम ही करना है तुझको तो ये करम कर दे,
मेरे खुदा तू मेरी ख्वाहिशों को कम कर दे

karan hi karna hai tujhko to ye karm kar de
mere khuda tu meri khwaishon ko kam kar de

हाल जब भी पूछो खैरियत बताते हो,
लगता है मोहब्बत छोड़ दी तुमने।

haal jab bhi poocho khairiyat btaate ho
lagta hai mohobbat chod di tumne

Dhoka shayari 2 lines

Dhoka shayari image

 

अपनी मंज़िल पे पहुँचना भी खड़े रहना भी,
कितना मुश्किल है बड़े होके बड़े रहना भी

apni manjil pe pahunchna bhi khade rehna bhi
kitna mushkil hai bade hokar bade rehna bhi

खोजती है निग़ाहें उस चेहरे को,
याद में जिसकी सुबह हो जाती है।

khojti hain nigaahein us chehre ko
yaad mein jiski subh hoti hai

ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें भी परेशान हो जाएं,
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुस्लमान हो जाएं

ye ped ye patte ye shakhein bhi pareshaan ho jayein
agr parindey bhi hindi musalmaan hi jayein

उड़ जायेंगे तस्वीरों से रंगों की तरह हम,
वक़्त की टहनी पर हैं परिंदों की तरह हम

ud jayenge tasveeron se rango ki trh ham
waqt ki tehni par hain parindon ki tarh ham

Matlabi dhoka shayari

Matlabi dhoka shayari

 

करम ही करना है तुझको तो ये करम कर दे,
मेरे खुदा तू मेरी ख्वाहिशों को कम कर दे

karm hi krna hai tujhkoo to ye karm kar de
mere khuda tu meri khwaishon ko kam karde

ज़माने में बस ये दो हादसे नही होते,
हम तुमसे जुदा, तुम हमारे नही होते

jamaane mein bas ye do haadse nahin hote
ham tumse juda, tum hamaare nahiin hoeote

बहुत से लोग थे मेहमान मरे घर लेकिन,
वो जानता था कि है एहतमाम किसके लिए।

bahut se log the mehmaan mere ghar lekin
vo jaanta tha ki hai ehtmaam kiske liye

Friend dhoka shayari

Friend dhoka shayari

 

कभी मैं तो कभी ये बात बदल रही है,
कमबख्त नींद से मेरी लड़ाई चल रही है

kabhi main to kabhi ye baat badal rahi hai
kambakht neend se meri ldaai chal rahi hai

रात तो वक़्त की पाबंद है ढल जाएगी,
देखना ये है चरागों का सफ़र कितना है

raat to waqt ki paaband hai dhal jaayegi
dekhna ye hai chraagon ka safar kitna hai

सुलझा हुआ सा समझते हैं मुझको लोग,
उलझा हुआ सा मुझमें कोई दूसरा भी है।

suljha hua sa samjhte hain mujhko log
ukljha hua sa mujhmein koi doosra bhi hai

Peeth piche dhoka shayari

Peeth piche dhoka shayari

 

तेरी याद में मेरी कलम भी रो पड़ी तू ही बता,
मैं कैसे कह दूं कि मुझे तुझसे मोहब्बत नहीं

teri yaad mein meri kalam bhi ro padi tu h bta
main kaise keh dun ki mujhe tujhse mohobbat nahin

करते हैं मेरी कमियों को बयान ऐसे,
लोग अपने किरदार में फ़रिश्ते हों जैसे।

karte hain meri kamiyon ko byaan aise
log apne kirdaar mein farishte hon jaise

लकड़ी के मकानों में चरागों को न रखिये,
अपने भी यहाँ आग बुझाने नहीं आते।

lakdi ke mkaano mein chraagon ko naa rakhiye
apne bhi yhaan aag bujhaane nahin aate

Vishwas me dhoka shayari

Vishwas me dhoka shayari

 

सितम तो ये है कि ज़ालिम सुखन-शनास नहीं,
वो एक शख्स जो शायर बना गया मुझको

sitam to ye hai ki jaalim sukha shnaas nahin
vo ek shaks jo shayar bna gya mujhko

वाकिफ था मेरी खाना-खराबी से वो शख्स,
जो मुझसे मेरे घर का पता पूछ रहा था

vaakif tha meri khaana khrraabi se vo shaks
jo mujhse mere ghar ka pata pooch rha tha

सितम तो ये है कि ज़ालिम सुखन-सनास नहीं,
वो एक शख्स जो शायर बना गया मुझको

sitam to ye hai ki jaalim sukhan snaa nahin
vo shaks jo hsayar bna gya mujhko

नजरों में दोस्तों की जो इतना खराब है,
उसका कसूर ये है कि वो कामयाब है।

najaron meipn doston ki jo itna khraab hai
uska kasoor ye hai ki vo kaamyaab hai

Thank You for reading Dhoka Shayari in Hindi. Don’t forget to share with your friends and loving ones.

Leave a Comment